आजादी

इस फरेबी संसार से तू ऐसे मत जुड़ जाना जब आए तेरी आजादी उड़ना मत भूल जाना।जिन्दगी की इस दौड़ में संतुलन बनाए रखना ,या बड़ा बनके खुद को खुदा मत समझना,जब आए तेरी आजादी उड़ना मत भूल जाना। आग भी राख होती है , जिन्दगी के भी शाख होते है,शाखों में उलझ कर खुदContinue reading “आजादी”