खोज

हर इंसान के अंदर हमेशा खोज चलता रहता है। और उम्र के साथ उसकी अंदर के खोज को वह बाहर खोजने लगता है, इसलिए वह हर वस्तु को खोजी की तरह देखता है। और जहां भी उसे उसके खोज से संबधित वस्तु आभास होता है ,वह उधर मुड़ जाता है। उस खोज के कारण वहContinue reading “खोज”