आजादी

आजादी तो आजादी होती है दोस्तों
मगर जिसने संस्कार में गुलामी पाया हो
उसके लिए आजादी क्या ?

आजादी के परवाने आजादी के लिए क्या कर नहीं गुजरते,

लेकिन जो जन्म से ही बंधा हो, उसके लिए आजादी क्या ?

अक्सर इस दुनिया में बिरले ही मिलते हैं आजाद,

जो जान बूझ कर बंधन में बंधे हैं,

उसके लिए आजादी क्या ?

Published by मनवीर

मैं रीडर और थिंकर हूं धन्यवाद

One thought on “आजादी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: