किसान

उसके पूरे शरीर पर मिट्टी लगा था,

पर आंखों में इक अलग सी चमक थी,

चेहरे पर संतोष का भाव था।

पूछने पर पता चला -: दो बार फसल के डूबने पर ,

वह तीसरी बार धान लगा के आया है ।

हर बार की तरह इस बार भी पूरा विश्वास है कि फसल बच जाएगा

Published by Ajab gjab

मैं राइटर रीडर ब्लॉगर और थिंकर भी हूं धन्यवाद

4 thoughts on “किसान

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: